|| मोर्वी नंदन श्याम की जय ||

श्याम बाबा की निशान यात्रा क्या है ?

निशान यात्रा एक तरह की पदयात्रा होती है जिसमे भक्त हाथो में श्याम ध्वज ( निशान) हाथ में उठाकर श्याम बाबा को चढाने खाटू श्याम जी मंदिर तक जाते है | मुख्यत यह यात्रा रींगस से खाटू श्याम जी तक की जाती है जो १८ किमी की यात्रा है | भक्त अपनी श्रद्दा से इसे जयपुर , दिल्ली कोलकाता और अपने घर से भी शुरू कर देते है | माना जाता है की पैदल निशान यात्रा करके निशान श्याम बाबा को चढाने से श्याम बाबा शीघ्र ही प्रसन्न होकर आपकी मनोकामना को पूर्ण करते है |

निशान यात्रा खाटू श्याम जी

क्यों चढ़ाया जाता है श्याम बाबा को निशान ?

श्याम बाबा के महाबलिदान शीश दान के लिए उन्हें निशान चढ़ाया जाता है | यह उनकी विजय का प्रतीक है जिसमे उन्होंने धर्म की जीत के लिए दान में अपना शीश ही भगवान श्री कृष्ण को दे दिया था |

कैसा होता है निशान ?

निशान छोटे से बड़े मुख्यत केसरी नीला , सफ़ेद ,लाल रंग का झंडा होता है | इन निशानों पर श्याम बाबा और कृष्ण भगवान के जयकारे और दर्शन के फोटो होते है | कुछ निशानों पर नारियल और मोरपंखी भी लगी होती है | इसपर सिरे पर एक रस्सी बंधी होती है जिससे यह निशान हवा में लहराता है | आजकल कई भक्त सोने और चांदी के भी निशान श्याम बाबा को अर्पित करते है |


पढ़े : कैसे चढ़ाये खाटू श्याम जी को निशान - जाने पूजन विधि और नियम

जिंदगी तेरी संवर जाएगी श्याम शरण में जाके देख ले

काम बिगरे बन जायेंगे पल में , एक निशान श्याम को चढ़ा कर देख ले |



श्याम बाबा से जुड़े यह लेख भी जरुर पढ़े ..


श्याम बाबा को मोर्विनंदन क्यों कहते है

खाटू श्याम जी के परम भक्त कौन है

कैसे करे श्याम बाबा की पूजा

श्याम बाबा की एकादशी और द्वादशी की महिमा

फाल्गुन मेला 2017

खाटू श्याम मंदिर कमिटी

shri khatu shyam ji