|| मोर्वी नंदन श्याम की जय ||

06 January 2021 Darshan 01 January 2021 Darshan साल के अंतिम दिनों में कब कब खुलेगा श्याम मंदिर 25 December Ekadashi 2020 Darshan Day By Day Darshan

खाटू श्याम जी कथा कहानी

!! शीश के दानी श्री श्याम बाबा का संक्षिप्त जीवन परिचय !!

श्री खाटू श्याम जी श्याम बाबा अर्थात वीर बर्बरीक का द्वापर युग में परिचय 

श्री खाटू श्याम जी श्याम बाबा की हिंदी कथा कहानी इस प्रकार है .

खाटू श्याम मोर्विनंदन बर्बरीक

द्वापर के अंतिम चरण में हस्तिनापुर में कौरव एवम पांडव राज्य करते थे, पाण्डवों के वनवासकाल में भीम का विवाह हिडिम्बा के साथ हुआ... उसके एक पुत्र हुआ, जिसका नाम घटोत्कच रखा गया... पाण्डवों का राज्याभिषेक होने पर घटोत्कच का कामकटंकटा के साथ विवाह और उससे बर्बरीक का जन्म हुआ.. उसने भगवती जगदम्बा से अजेय होने का वरदान प्राप्त किया...

जब महाभारत युद्ध की रणभेरी बजी, तब वीर बर्बरीक युद्ध देखने की इच्छा से कुरु क्षेत्र की और प्रस्थान किया, मार्ग में विप्र रूप धारी श्री कृष्णा से साक्षात्कार हुआ.. विप्र के पूछने पर उसने अपने आप को योद्धा व दानी बताया.. परीक्षा स्वरुप उसने पेड़ के प्रत्येक पत्ते को एक ही बाण से बेंध दिया तथा श्री कृष्ण के पैर के नीचे वाले पत्ते को भी बेंधकर वह बाण वापस तरकस में चला गए... विप्र वेशधारी श्री कृष्ण के पूछने पर उसने कहा कि मैं हारने वाले पक्ष में लडूंगा..श्री कृष्ण ने कहा कि अगर तुम महादानी हो तो अपना शीश समर भूमि की बलि हेतु दान में दे दो... ततपश्चात् श्री कृष्ण के द्वारा अपना असली परिचय दिए जाने के बाद उसने महाभारत युद्ध देखने कि इच्छा प्रकट की... रात भर भजन पूजन कर प्रातः फाल्गुन शुक्ला द्वादशी को स्नान पूजा आदि करके, अपने हाथ से अपना शीशश्री कृष्ण को दान कर दिया... श्री कृष्ण ने उस शीश को युद्ध अवलोकन के लिए, एक ऊँचे स्थान पर स्थापित कर दिया...


युद्ध में विजय श्री प्राप्त होने पर पांडव विजय के श्रेय के सम्बन्ध में वाद-विवाद करने लगे... तब श्रीकृष्ण ने कहा की इसका निर्णय बर्बरीक का शीश कर सकता है... शीश ने बताया कि युद्ध में श्री खाटू श्याम मोर्विनंदन बर्बरीककृष्ण का सुदर्शन चक्र चल रहा था और द्रौपदी महाकाली के रूप में रक्त पान कर रही थी.. श्री कृष्ण ने प्रसन्न होकर शीश को वरदान दिया कि कलयुग में तुम मेरे श्याम नाम से पूजित होगे तुम्हारे स्मरण मात्र से ही भक्तों का कल्याण होगा और धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष कि प्राप्ति होगी... स्वप्न दर्शनोंपरांत बाबा श्याम, खाटू धाम में स्थित -श्याम कुण्ड से प्रकट होकर अपने कृष्ण विराट सालिग्राम श्री श्याम रूप में सम्वत १७७७ में निर्मित वर्तमान खाटू श्याम जी मंदिर में भक्तों कि मनोकामनाए पूर्ण कर रहे है

जय जय श्री श्याम

जय हो खाटू वाले श्याम

श्री खाटू श्याम जी मंदिर शिलालेख

श्री खाटू श्याम जी सम्पूर्ण कथा कहानी

shri khatu shyam ji