|| मोर्वी नंदन श्याम की जय ||

06 January 2021 Darshan 01 January 2021 Darshan साल के अंतिम दिनों में कब कब खुलेगा श्याम मंदिर 25 December Ekadashi 2020 Darshan Day By Day Darshan

एकादशी और द्वादशी श्याम बाबा के लिए

खाटू श्याम जी के लिए एकदशी और द्वादशी का महत्व


>खाटू श्याम जी के महा दान शीश के दान के कारण भगवान श्री कृष्ण ने उन्हें द्वापर युग में घर घर उनके नाम श्याम के नाम से पूजे जाने का वरदान दिया और आज हम देख रहे है बाबा श्याम के नाम का डंका भारत और विदेश में हर जगह बज रहा है | हजारो मंदिर बाबा के नाम से बन चुके है | व्रत-उपवास करने के विभिन्न महत्व और नियम जाने | यह दिन वैष्णव संप्रदाय में सर्वश्रेष्ठ और अतिफलदायक माना गया है |

श्याम बाबा की एकादशी का महत्व

श्याम बाबा का सबसे मुख्य दिन :

हम अपने आराध्य देव श्री खाटू नरेश का मुख्य दिन शुक्ल पक्ष एकादशी का मानते है जिसे ग्यारस के नाम से पूजा जाता है | और उसके बाद आने वाला द्वादशी के दिन इनकी ज्योत लेकर भोग में चूरमा बाटी का भोग लगाते है |

क्यों एकादशी का दिन श्याम बाबा का प्रिय है |

वैष्णव मत के अनुचर श्री विष्णु भगवान को पूजते है और उन्ही के रूप श्री कृष्ण की पूजा करते है | भगवान विष्णु के पूजन का सबसे मुख्य दिन एकदशी को माना जाता है | भगवान खाटू श्याम कृष्ण के वरदान के कारण ही पूजे जाते है इसलिए भी इनका मुख्य दिवस ग्यारस मानी गयी है |

श्याम जन्मोत्सव

खाटू श्याम जी मंदिर में कार्तिक शुक्ल एकादशी की की श्याम बाबा क शीश को दर्शनार्थ सुशोभित किया गया था | इसी कारण इस दिन श्याम बाबा का जन्मदिवस भी मनाया जाता है |

श्याम बाबा के द्वादशी के दिन का महत्व :

यह कहा जाता है की श्याम बाबा ने अपना शीश का दान फाल्गुन शुक्ल द्वादशी को दिया था और फिर महाभारत के युद्ध को देखने के लिए न्यायधीश बने | इस महाबलिदान के कारण ही इस दिन बाबा श्याम की ज्योत लेकर उन्हें चूरमे , खीर का भोग लगाया जाता है |

श्याम बाबा से जुड़े यह लेख भी जरुर पढ़े ..


खाटू श्याम में दर्शनीय स्थल और मंदिर

खाटू श्याम जी के महान भक्त

कैसे करे श्याम बाबा की पूजा

फाल्गुन मेला 2017

खाटू श्याम बाबा की आरती

खाटू श्याम निशान यात्रा

shri khatu shyam ji