Khatu shyam ji Shyam Baba
पदाधिकारियों के चुनाव संपन्न जल झुलनी एकादशी 2020 श्याम दर्शन भादो अमावस्या 2020 श्याम दर्शन कृष्ण जन्माष्टमी 2020 श्याम दर्शन लॉकडाउन में हो रहा है श्याम मंदिर विस्तार 2020 फाल्गुन मेले से जुडी खबरे





गुरु को समर्प्रित दिन गुरु पूर्णिमा

Ved Vyas ji photo   गुरु को शिष्य का संबंद भगवान् से भी बड़ा बताया गया है क्योकि गुरु के बिना ज्ञान, अनुशाषण और भक्ति नहीं मिलती और इनके आभाव से ईश्वर को प्राप्त नहीं किया जा सकता |
गुरु शब्द का अर्थ ही है अन्धकार को दूर करने वाला | अन्धकार के दूर होने पर प्रकाश की प्राप्ति होती है | हिंदी शास्त्रों में गु का अर्थ अन्धकार और रु का अर्थ दूर करने वाले से है |

गुरु पूर्णिमा उत्सव :

हिंदी शास्त्रों के अनुसार गुरु पूर्णिमा का उत्सव महर्षि वेद व्यास जी याद में मनाया जाता है | इसी दिन महाभारत और चारो वेद के रचियता इस महान संत का जन्म हुआ था | इसी कारण इसे व्यास पूर्णिमा और आदि गुरु पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है | भक्तिकाल में कबीरदास के शिष्य घीसालाल का जन्म भी इसी दिन हुआ था | यह दिन आषाढ़ महीने की पूर्णिमा को आता है | इस दिन गुरु पूजा की जाती है और गुरु को अपने सामर्थ्य के अनुसार दक्षिणा प्रदान की जाती है | गुरु पूर्णिमा उत्सव सावन महीने के शुरू में आती है |

भारत भर में गुरु पूर्णिमा पर्व बड़ी श्रद्धा व धूमधाम से मनाया जाता है। हिन्दू , जैन और बौध धर्म में गुरु का अपना अपना महत्व है | हम्हारे सनातन धर्म ने गुरु और शिष्य के अतुलनीय रिश्ते की महिमा पुरे जगत में पनपाई है | गुरु को भेट में अपने अंगुटा काट के देने वाले एकलव्य को कौन भूल सकता है | बर्बरीक का शीश दान गुरु श्री कृष्णा को प्रदान करना भी कोई नहीं भूल सकता |

गुरु की महिमा :

गुरु वही है जिससे हम कुछ ऐसा सीखे जिससे हम्हारी आध्यात्मिक उन्नति हो सके | गुरु ज्ञान का प्रकाश देने वाले और अन्धकार को दूर करने वाले होते है | इनके सान्निध्य में व्यक्ति सदमार्ग पर चलकर मोक्ष की प्राप्ति कर सकता है | गुरु शिक्षा में व्यापार नही होना चाहिए जो की आजकल ढोंगी गुरु कर रहे है | यदि कोई गुरु अर्थ के बदले ज्ञान देने की बात करता हो तो वह व्यक्ति गुरु कहलाने लायक नहीं है |

यह भी पढ़े ....

गुरु पूर्णिमा कैसे मनाये
गुरु को समर्प्रित श्लोक और शायरिया

Khatu Mela 2015 Updates